Clean energy in rural India BFID/Flickr

वैश्विक वित्त और ग्लोबल वार्मिंग

नई दिल्ली/लंदन 2008 में जब वैश्विक वित्तीय संकट ने विश्व की अर्थव्यवस्था को लगभग तबाह कर दिया था, उसके बाद से वित्तीय सुधार नीति निर्माताओं के एजेंडा की शीर्षस्थ मदों में रहा है। लेकिन, नेताओं द्वारा अतीत की समस्याओं को सुलझाने से लेकर, भविष्य के लिए वित्तीय प्रणाली को तैयार करने के लिए उन्हें इसकी स्थिरता, विशेष रूप से जलवायु परिवर्तन से उत्पन्न नई चुनौतियों से भी निपटना होगा।

यही कारण है कि बहुत अधिक संख्या में सरकारों, नियामकों, मानक-निर्धारकों, और बाजार संचालनकर्ताओं ने वित्तीय प्रणाली में स्थिरता से संबंधित नियमों को शामिल करना शुरू कर दिया है। ब्राज़ील में, केंद्रीय बैंक जोखिम प्रबंधन में पर्यावरण और सामाजिक कारकों को समेकित करने को लचीलेपन को मजबूत करने के एक उपाय के रूप में देखता है। और सिंगापुर और दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों में, शेयर बाजार में सूचीबद्ध कंपनियों के लिए अपने पर्यावरणीय और सामाजिक निष्पादन को प्रकट करना अनिवार्य है, यह एक ऐसी आवश्यकता है जिसे निवेशक और नियामक वित्तीय बाजारों के कुशल संचालन के लिए आवश्यक मानते हैं।

इस तरह की पहल को पहले कभी एक परिधीय "हरित" स्थान के हिस्से के रूप में माना जाता होगा। आज, इन्हें वित्तीय प्रणाली के संचालन के लिए मूल माना जाता है। बांग्लादेश में आर्थिक विकास का समर्थन करने के लिए केंद्रीय बैंक के प्रयासों में नवीकरणीय ऊर्जा, ऊर्जा दक्षता, या अपशिष्ट प्रबंधन के लक्ष्यों का अनुपालन करने वाली परियोजनाओं के लिए ऋण देने वाले बैंकों के लिए कम लागत वाला पुनर्वित्त प्रदान करना शामिल है। यूनाइटेड किंगडम में, बैंक ऑफ इंग्लैंड वर्तमान में वित्तीय संस्थाओं की सुरक्षा और सुदृढ़ता की निगरानी करने के लिए अपने मूल निदेश के हिस्से के रूप में बीमा क्षेत्र के लिए जलवायु परिवर्तन के प्रभाव का मूल्यांकन करता है।

चीन में, अगले पाँच वर्षों में हरित उद्योग में वार्षिक निवेश $320 बिलियन तक पहुँच सकता है जबकि सरकार कुल राशि का केवल 10-15% प्रदान करने में सक्षम होगी। निधियाँ प्रदान करने में कमी को रोकने की दृष्टि से, पीपुल्स बैंक ऑफ़ चाइना ने हाल ही में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) के साथ मिलकर एक रिपोर्ट तैयार की है जिसमें चीन की “हरित वित्तीय प्रणाली” स्थापित करने के लिए व्यापक सिफारिशें की गई हैं।

भारत में, भारतीय वाणिज्य और उद्योग महासंघ ने एक नया "हरित बॉन्ड" कार्यदल स्थापित किया है ताकि यह पता लगाया जा सके कि देश के ऋण बाजार स्मार्ट बुनियादी ढाँचे के वित्तपोषण की चुनौती का सामना किस प्रकार कर सकते हैं। और हाल ही में किए गए विनियामक परिवर्तनों से सूचीबद्ध निवेश न्यासों द्वारा पूंजी का उपयोग स्वच्छ ऊर्जा के लिए किए जाने की काफी अधिक संभावना दिखाई देती है।

फिलहाल, इस तरह के उपायों से वैश्विक वित्तीय प्रणाली में बैंकों, निवेशकों, वित्तीय संस्थाओं, और व्यक्तियों द्वारा धारित $305 ट्रिलियन की परिसंपत्तियों का केवल थोड़ा-सा अंश प्रभावित होता है। लेकिन यह निश्चित है कि इन्हें अधिक व्यापक रूप से लागू किया जाएगा क्योंकि वित्तपोषक और नियामक दोनों ही पर्यावरणीय अव्यवस्था के परिणामों को अच्छी तरह से जानते हैं।

SPRING SALE: Save 40% on all new Digital or Digital Plus subscriptions
PS_Sales_Spring_1333x1000_V1

SPRING SALE: Save 40% on all new Digital or Digital Plus subscriptions

Subscribe now to gain greater access to Project Syndicate – including every commentary and our entire On Point suite of subscriber-exclusive content – starting at just $49.99.

Subscribe Now

ये परिणाम पहले से ही गंभीर हैं। यूएनईपी द्वारा मूल्यांकन किए गए 140 देशों में से 116 देशों में, मूल्य सृजन के मूल में व्याप्त प्राकृतिक पूंजी के शेयरों में कमी हो रही है। कार्बन में निरंतर भारी वृद्धि की मानवीय और आर्थिक लागतों में गंभीर स्वास्थ्य प्रभाव, बुनियादी सुविधाओं में बढ़ रहा विघटन, और जल और खाद्य सुरक्षा, और साथ ही विशेष रूप से विकासशील देशों में बाजार में बढ़ती अस्थिरता शामिल हैं। यदि 2055 और 2070 के बीच ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जनों को निवल शून्य स्तरों तक कम नहीं कर दिया जाता है तो जोखिम अनियंत्रणीय हो जाने के फलस्वरूप यह क्षति और भी बढ़ जाएगी।

जलवायु परिवर्तन से खतरा जितना अधिक स्पष्ट दिखाई देगा, इसके प्रभाव की प्रतिक्रिया का वित्तपोषण करना और भी महत्वपूर्ण हो जाएगा। विकसित देशों ने 2020 तक विकासशील देशों के लिए $100 बिलियन के वार्षिक वित्तीय प्रवाहों को जुटाने की प्रतिबद्धता की है, लेकिन इससे बहुत अधिक की आवश्यकता है।

इससे भी अधिक इस बात की आवश्यकता है कि जलवायु परिवर्तन से उत्पन्न वित्तपोषण की चुनौती को हरित अर्थव्यवस्था और सतत विकास के व्यापक संदर्भ में देखा जाए। जिन लोगों की वित्तीय प्रणाली को नियंत्रित करने की जिम्मेदारी है उनके सामने चुनौती है कि अधिक कार्बन से कम कार्बन वाले निवेशों और कमजोर से लचीली परिसंपत्तियों में निवेश में क्रमिक रूप से परिवर्तन हो। नई जलवायु अर्थव्यवस्था पहल के अनुसार, 2030 तक वैश्विक बुनियादी ढाँचे के निवेश पर $89 ट्रिलियन खर्च किए जाएँगे - इसे कम कार्बन वाला और लचीला बनाने के लिए अतिरिक्त $4.1 ट्रिलियन की आवश्यकता होगी।

आवश्यक पूंजी जुटाने के लिए, नीति निर्माताओं को वित्तीय प्रणाली की शक्ति का उपयोग करना होगा। जोखिम प्रबंधन की व्याप्ति का विस्तार करना होगा ताकि बैंकिंग, बीमा, और निवेश के लिए विवेकपूर्ण नियमों में जलवायु परिवर्तन से दीर्घकालीन स्थिरता और जोखिम को सम्मिलित किया जा सके। नए "हरित बैंक" ऋण और ईक्विटी बाजारों से निधियाँ प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं। बेहतर कॉर्पोरेट रिपोर्टिंग और वित्तीय संस्थाओं से अधिक प्रकटीकरण के माध्यम से पारदर्शिता को बढ़ाया जाना आवश्यक होगा। और इन नई प्राथमिकताओं को प्रतिबिंबित करने के लिए वित्तीय पेशेवरों के कौशल और प्रोत्साहनों को पुनर्निर्धारित और संशोधित करना होगा।

अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के लिए अब नए रास्ते खुल रहे हैं। उदाहरण के लिए, जी-20 के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंकों के गवर्नरों ने वित्तीय स्थिरता बोर्ड से यह पता लगाने के लिए कहा है कि वित्तीय क्षेत्र जलवायु संबंधी मुद्दों पर किस प्रकार कार्रवाई कर सकता है। इस प्रकार की जानेवाली कार्रवाइयों से न केवल जलवायु सुरक्षा सुदृढ़ होगी; बल्कि ये अधिक कुशल, प्रभावी, और लचीली वित्तीय प्रणाली में भी योगदान करेंगी।

https://prosyn.org/3iU79m7hi