windmill Daniel Mennerich/Flickr

टिकाऊ भविष्य के अवसर का लाभ उठाएँ

बीजिंग – कई वर्षों में पहली बार, बहुत अधिक आशावादी होना सही लग रहा है। वैश्विक अर्थव्यवस्था - कुछ एक अड़चनों को छोड़कर - अंततः वित्तीय संकट से उबर रही है।  प्रौद्योगिकीय सफलताओं ने नवीकरणीय ऊर्जा को जीवाश्म ईंधनों के साथ प्रतिस्पर्धा करने योग्य बना दिया है। और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय सतत विकास और जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई पर महत्वपूर्ण समझौते करने की ओर अग्रसर लग रहा है।

और फिर भी यह खतरा बना हुआ है कि ये लाभ व्यर्थ चले जाएँगे क्योंकि नीतिनिर्माता, व्यवसाय अग्रणी और निवेशक वैश्विक अर्थव्यवस्था पर मंडरा रहे खतरों को दरकिनार करके अल्पकालिक चिंताओं पर ध्यान केंद्रित करने लगे हैं। यदि हमें अपनी प्रगति को बरकरार रखना है तो हमें अपनी वित्तीय प्रणाली की विफलताओं के मूल तक जाकर विचार करना होगा, ऐसे मानकों, विनियमों, और प्रथाओं को अपनाना होगा जो इसे अधिक समावेशी, टिकाऊ अर्थव्यवस्था की दीर्घकालिक आवश्यकताओं के अनुरूप बनाएँ।

इस साल, दुनिया में इसे  कर पाने की क्षमता है। चूँकि बढ़ती सार्वजनिक स्वीकार्यता और प्रौद्योगिकीय प्रगति के फलस्वरूप स्वच्छ ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश अधिकाधिक व्यावहारिक होते जा रहे हैं, हरित अर्थव्यवस्था में संक्रमण अब एक निश्चित बात लग रही है, न की आशापूर्ण महत्वाकांक्षा। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) की हाल ही की एक रिपोर्ट के अनुसार 2014 में, नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में वैश्विक निवेश में 17% की वृद्धि हुई, हालाँकि तेल की कीमतों में काफी कमी हुई। इस प्रवृत्ति के मूल में चीन और जापान में सौर ऊर्जा में आई तेजी और अपतटीय पवन ऊर्जा में यूरोपीय निवेश में हुई वृद्धि होना था।

शंघाई से साओ पाओलो के स्टॉक एक्सचेंजों ने निवेशकों को इस बारे में सूचित करने के लिए रिपोर्टिंग आवश्यकताएँ निर्धारित की हैं कि कंपनियाँ अपनी रणनीतियों में स्थिरता को किस तरह सम्मिलित कर रही हैं। ग्रीन बांडों की लोकप्रियता बढ़ती जा रही है, 2014 में $40 बिलियन से अधिक के बांड जारी किए गए, तथा और अधिक स्पष्ट मानकों और विनियमों के निर्धारित हो जाने पर उनके और भी अधिक लोकप्रिय होने की संभावना है। केंद्रीय बैंक भी अब पर्यावरण पर ध्यान देने लग गए हैं। पीपुल्स बैंक ऑफ़ चाइना व्यावहारिक उपायों की पहचान करने के लिए “हरित” वित्तीय-बाजार सुधार सुनिश्चित करने के लिए यूएनईपी के साथ मिलकर कार्य कर रहा है, और बैंक ऑफ़ इंग्लैंड ने यूनाइटेड किंगडम के बीमा क्षेत्र को जलवायु परिवर्तन के फलस्वरूप होनेवाले क्रमिक जोखिमों की विवेकपूर्ण समीक्षा करना आरंभ कर दिया है।

सितंबर में संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) का आरंभ होगा, जो पर्यावरण और इस धरती के प्राकृतिक संसाधनों के आधार की रक्षा करते हुए गरीबी और भुखमरी को समाप्त करने के लिए विश्व के सबसे पहले सार्वभौमिक रूप से स्वीकार किए गए निर्धारणीय लक्ष्य हैं। और, इस वर्ष बाद में, अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के उत्सर्जनों में कटौती करने और जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई के वित्तपोषण के लिए बाध्यकारी प्रतिबद्धताओं पर सहमत होने की आशा है।

हालाँकि सभी संकेत सही दिशा में इशारा कर रहे हैं, इसमें सफलता की गारंटी बिल्कुल नहीं है। यदि इस क्षण का उपयोग नहीं किया जाता है, तो लाभ हाथ से निकल सकते हैं। असली सवाल सही समय का है, और उस अपूरणीय क्षति का है जो विलंबों के कारण हो सकती है। यूएनईपी की “समावेशी संपत्ति” रिपोर्ट में सर्वेक्षण किए गए 140 देशों के 80% से अधिक के मामले में उनकी प्राकृतिक पूंजी के स्टॉक में गिरावट दर्ज की गई। पर्यावरण क्षरण से होनेवाली आर्थिक क्षति, प्रति वर्ष लगभग $7 ट्रिलियन होने का अनुमान है जिसमें से अधिकतर की भरपाई नहीं की जा सकती। हम जितने अधिक समय तक प्रतीक्षा करेंगे, हमारी समस्याएँ  ही अधिक गंभीर हो जाएँगी।

Secure your copy of PS Quarterly: Age of Extremes
PS_Quarterly_Q2-24_1333x1000_No-Text

Secure your copy of PS Quarterly: Age of Extremes

The newest issue of our magazine, PS Quarterly: Age of Extremes, is here. To gain digital access to all of the magazine’s content, and receive your print copy, subscribe to PS Premium now.

Subscribe Now

ज़रूरत इस बात की है कि वित्तीय और पूंजी बाजारों को ऐसे तरीकों से पुनर्व्यवस्थित करने के लिए कोई ऐसा महत्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय प्रयास किया जाए कि वे सतत विकास का समर्थन करें। हमारी वित्तीय प्रणाली के वर्तमान स्वरूप से जो गारंटी मिलती है उसे बैंक ऑफ़ इंगलैंड के गवर्नर मार्क कार्नी ने "दूरदृष्टिता की त्रासदी" कहा है - यह निवेशकों, कंपनियों, और सरकारों की जलवायु परिवर्तन जैसी समस्याओं के बारे में कार्रवाई करने में असमर्थता के फलस्वरूप होनेवाली बाज़ार विफलता है, और इसके परिणाम केवल दूर भविष्य में महसूस होंगे।

नीतिनिर्माता और व्यवसाय अग्रणी तात्कालिक चिंताओं पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कई कारणों का हवाला देते हैं। वास्तव में, किसी दूसरे वित्तीय संकट के उत्पन्न होने के जोखिमों को कम करने के लिए की जानेवाली नीति संबंधी कार्रवाइयाँ बैंकों और संपत्ति प्रबंधकों को अल्पावधि के लिए उधार देने और निवेश करने के लिए मजबूर कर देती हैं जो अक्सर अधिक लाभदायक सिद्ध होता है, लेकिन दीर्घावधि अवसरों की दृष्टि से इनमें कम तरलता होती है।

अल्पावधि दबाव हमेशा मौजूद रहेंगे, लेकिन उचित साधनों: पर्यावरणीय जोखिमों के बेहतर मूल्यन, जलवायु संवेदनशील क्रेडिट रेटिंग, पर्यावरण उधारदाता दायित्व, और पर्यावरण संबंधी जोखिमों के वित्तीय स्थिरता पर पड़नेवाले प्रभाव को कम करने के प्रयासों से उन पर काबू पाया जा सकता है। टिकाऊ भविष्य पहुँच के भीतर है, लेकिन यह तभी हो सकता है जब हम इसे संभव बनाने वाली नीतियाँ निर्धारित करें।

https://prosyn.org/BbmXz6jhi