0

अधिक सहायता का अधिकतम लाभ उठाना

पेरिस – वैश्विक गरीबी उन्मूलन के लिए प्रयास पहले कभी इतना अधिक तीव्र नहीं हुआ था। ओईसीडी के नए आंकड़ों के अनुसार 2014 में, लगातार दूसरे वर्ष, आधिकारिक विकास सहायता (ओडीए) की कुल राशि $135 बिलियन के ऐतिहासिक उच्च स्तर पर पहुँच गई। इससे यह पता चलता है कि उन्नत अर्थव्यवस्थाएँ स्वयं अपनी हाल ही की समस्याओं के बावजूद, वैश्विक विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

इस कुल राशि में चीन, अरब देशों, और लैटिन अमेरिकी देशों द्वारा निवेशों और ऋणों के रूप में किए गए भारी व्यय की राशि को जोड़ें तो यह स्पष्ट हो जाता है कि विकासशील दुनिया की ओर ओडीए के प्रवाह अभूतपूर्व स्तरों तक पहुँच गए हैं। और फिर भी सुर्खियोंवाली इन संख्याओं के बारे में खुशी के कारण इन निधियों का अधिक प्रभावी ढंग से उपयोग करने के अवसरों को नज़रअंदाज़ नहीं होने देना चाहिए।

Chicago Pollution

Climate Change in the Trumpocene Age

Bo Lidegaard argues that the US president-elect’s ability to derail global progress toward a green economy is more limited than many believe.

दाता देशों द्वारा आधिकारिक सहायता के फलस्वरूप चरम गरीबी और बाल मृत्यु दर को आधा करने में मदद मिली है, और इसके कारण कई अन्य मोर्चों पर भी प्रगति के लिए प्रोत्साहन मिला है। लेकिन यह स्पष्ट होता जा रहा है कि विकास सहायता के सतत प्रवाह 2030 तक चरम गरीबी का उन्मूलन करने और संयुक्त राष्ट्र के नए सतत विकास लक्ष्यों को लागू करने के लिए पर्याप्त नहीं होंगे, जिन पर इस वर्ष बाद में सहमति होनी है।

यदि हम सहायता पर निर्भर देशों में घरेलू कर प्रवाहों और निजी निवेशों को जुटाने के आदी होते तो आज सहायता पर जो खर्च किया जा रहा है उसका काफी अधिक भारी प्रभाव हो सकता था। ओडीए के इस उपयोग को ओईसीडी द्वारा 8 अप्रैल को आरंभ किए गए नए निर्देशक: विकास के लिए समग्र आधिकारिक सहायता के परिप्रेक्ष्य में अधिक बेहतर रूप से समझा जा सकता है।

औसत रूप से, विकासशील देश अपने 17% सकल घरेलू उत्पाद को करों के रूप में जुटाते हैं जबकि इसकी तुलना मेंओईसीडी देशों में यह 34% है। कुछ तो 10% जितना कम इकट्ठा करते हैं। चोरी किया जानेवाला अधिकतर कर राजस्व अवैध प्रवाहों के रूप में निकल जाता है और यह आखिरकार विदेशों में पहुँच जाता है।

उदाहरण के लिए, अफ्रीका को अवैध प्रवाहों के रूप में लगभग $50 बिलियन प्रति वर्ष की हानि होती है, यह राशि उसे विकास सहायता के रूप में प्राप्त होनेवाली राशि से बहुत अधिक है। विकासशील देशों को करों के रूप में सकल घरेलू उत्पाद का मात्र 1% अधिक जुटाने में सक्षम बनाने से ओडीए की कुल राशि से लगभग दुगुनी राशि जुटाई जा सकेगी - और इस पूरी राशि का उपयोग शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, या नकद भुगतान योजनाओं के लिए किया जा सकता है।

कर प्रणालियों को मजबूत बनाने पर खर्च किए गए धन से प्राप्त लाभ चौंका देने वाले हो सकते हैं। केन्या में, ओईसीडी के नेतृत्व में चलाई गई एक परियोजना, सीमा रहित कर निरीक्षक में पाया गया कि कर चोरी के मामलों में छापे मारने के लिए अधिकारियों के साथ काम करने पर खर्च हुए प्रत्येक डॉलर से अधिक राजस्व के रूप में $1,290 प्राप्त हुए। इसी तरह, फिलीपीन्स में, कर सुधारों में सहायता के लिए उपलब्ध कराई गई आधा मिलियन डॉलर की राशि से अतिरिक्त कर प्राप्तियों के रूप में $1 बिलियन से भी बहुत अधिक की राशि प्राप्त हुई। फिर भी आज, पूरी विकास सहायता का केवल 0.1%, जो $120 मिलियन से भी कम है, विकासशील देशों में कर प्रणालियों में सहायता प्रदान करने में चला जाता है।

विकास सहायता को सही दिशा में लगाए जाने पर उससे निजी निवेश को जुटाने की भी संभावना होती है बशर्ते इसे जोखिम को कम करने के लिए खर्च किया जाए। विकास सहायता के द्वारा समर्थित गारंटियों, सुलभ ऋणों, और ईक्विटी निवेशों से निवेशकों को आकर्षित करने में मदद मिल सकती है, जैसा कि माली में सौर ऊर्जा परियोजनाओं और इथियोपिया में विनिर्माण संयंत्रों के मामले में हुआ है। 2014 में, यूरोपीय संघ के तत्कालीन विकास आयुक्त एंड्रीस पीबैलग्स ने सूचित किया था कि €2.1 बिलियन ($2.2 बिलियन) के अनुदान की राशि से "2007 से अब तक 226 परियोजनाओं में €40.7 बिलियन का अनुमानित लाभ प्राप्त हुआ" है।

यह भी महत्वपूर्ण है कि सहायता में उन क्षेत्रों को लक्ष्य बनाया जाए जहाँ इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है। हालाँकि पिछले वर्ष सहायता रिकॉर्ड स्तरों पर बनी रही, दुनिया के सबसे कम विकसित देशों को उपलब्ध कराई गई निधियों की राशि में वास्तव में कमी हुई। बेहतर हालत वाले देशों में पुराने चल रहे कार्यक्रमों को अधिक मात्रा में धन प्राप्त हुआ, जबकि बहुत से अपेक्षाकृत गरीब देशों की एक बार फिर अनदेखी हुई।

विश्व के नेता जुलाई में अदीस अबाबा में जब सतत विकास के लिए वित्तपोषण पर शिखर सम्मेलन में मिलेंगे, तो उन्हें उन देशों के लिए सहायता प्रदान करने के लिए सहमत होना चाहिए जिन्हें वित्त के अन्य स्रोतों तक सबसे कम पहुँच प्राप्त है, निवेशकों को आकर्षित करने में सबसे अधिक कठिनाई है, और जिनकी कर प्रणालियाँ सबसे कमजोर हैं। जातीय और धार्मिक अल्पसंख्यकों और स्वदेशी ग्रामीण आबादियों जैसे कमजोर समूहों पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए, जो गरीबी से बाहर निकलने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

Fake news or real views Learn More

ओईसीडी की विकास सहायता समिति के 29 सदस्य देशों ने दुनिया के सबसे गरीब देशों में सहायता में कमी होने की प्रवृत्तियों को बदलने के लिए प्रतिबद्धता दर्शाई है। इन दाता देशों ने अपनी सकल राष्ट्रीय आय में से कम-से-कम 0.15% राशि को सबसे कम विकसित देशों के लिए विकास सहायता पर खर्च करने के संयुक्त राष्ट्र के लक्ष्य को पूरा करने का भी वादा किया है। इसके अलावा, वे नए नियमों पर सहमत हो गए हैं जिनके अनुसार सबसे गरीब देशों को सुलभ शर्तों पर और अधिक संसाधन प्रदान किए जाने चाहिए, और यह कि ऋण की सततता को सुनिश्चित करने के लिए नए सुरक्षा उपायों को लागू किया जाना चाहिए।

मानव इतिहास में हम ऐसी पहली पीढ़ी हैं जिसके पास इस धरती पर हर व्यक्ति को घोर गरीबी से बाहर निकालने के लिए साधन उपलब्ध हैं। दुनिया में पर्याप्त पैसा है। यह महत्वपूर्ण है कि हम इसका उपयोग और अधिक बुद्धिमत्तापूर्वक करें।