antibiotics David Poller/ZumaPress

महासंक्रमणों का दमन करना

लंदन - वर्तमान एंटीबायोटिक दवाएँ, न केवल निमोनिया और मूत्र पथ संक्रमणों जैसी आम बीमारियों से लड़ने में, बल्कि तपेदिक और मलेरिया जैसे कई प्रकार के संक्रमणों का इलाज करने में भी अधिकाधिक निष्प्रभावी होती जा रही हैं, जो अब फिर से लाइलाज होने का जोखिम पैदा कर रहे हैं। जी-7 के नेताओं द्वारा "रोगाणुरोधी प्रतिरोध" (AMR) से निपटने के लिए प्रतिबद्ध होने के हाल ही के संयुक्त प्रस्ताव के साथ, अब अधिक समावेशी जी-20 - और चीन के लिए, जो पहली बार इस समूह की अध्यक्षता कर रहा है - इस लड़ाई को अगले स्तर तक ले जाने की बारी है।

AMR पर कार्रवाई करने में विफलता का असर सब पर पड़ेगा, चाहे उनकी राष्ट्रीयता या उनके देश के विकास का स्तर कुछ भी हो। निश्चित रूप से, 2050 तक AMR के फलस्वरूप दस मिलियन लोगों की मृत्यु होने की संभावना है, जबकि आज यह संख्या लगभग 7,00,000 है, जिनमें से चीन और भारत प्रत्येक में लगभग एक मिलियन पीड़ित लोग होंगे। उस बिंदु पर, वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद में हम पहले ही अनुमानित रूप से $100 ट्रिलियन डॉलर खो चुके होंगे।

तथापि, शेष अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की भागीदारी के बिना जी-7 की कोई भी रणनीति सफल नहीं हो सकती, चाहे वह कितनी भी अच्छी तरह क्यों न तैयार की जाए। आखिरकार, अगर संक्रमण उन लोगों के साथ यात्रा करते हैं जिनमें वह होता है, तो प्रतिरोध भी ऐसा ही करता है, जिसका मतलब यह है कि AMR का एकमात्र समाधान साझेदारी है। यही कारण है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के सदस्य "AMR पर वैश्विक कार्रवाई योजना" को लागू करने के लिए सहमत हो गए हैं, और उन्होंने संयुक्त राष्ट्र से 2016 में राजनीतिक नेताओं की उच्च-स्तरीय बैठक बुलाने का आह्वान किया है।

We hope you're enjoying Project Syndicate.

To continue reading, subscribe now.

Subscribe

or

Register for FREE to access two premium articles per month.

Register

https://prosyn.org/hAqUuhohi