0

विकास वित्त में नए युद्ध-क्षेत्र

प्रिटोरिया - उभरते देशों में बुनियादी ढाँचे के विकास का समर्थन करने के लिए सार्वजनिक-निजी भागीदारी (PPP) की लोकप्रियता दुनिया भर में बढ़ रही है। वैश्विक विकास को बढ़ावा देने और रोज़गार के अवसर पैदा करने के लिए जी-20 PPP का समर्थन करते हैं। BRICS अर्थव्यवस्थाएँ (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ़्रीका) उन्हें ज़रूरी बुनियादी ढाँचे का निर्माण शीघ्रता से और सस्ते में करने के एक उपाय के रूप में देखती हैं। संयुक्त राष्ट्र को उम्मीद है कि बुनियादी ढाँचे की PPP इसकी 2015 के बाद की वैश्विक विकास कार्यसूची को पूरा करने के लिए साधन प्रदान करेगी। PPP का नया आकर्षण न केवल विकास अर्थशास्त्र को, बल्कि अमीर और ग़रीब देशों के बीच समग्र रिश्ते को भी फिर से परिभाषित कर सकता है - हालाँकि जरूरी नहीं है कि यह बेहतरी के लिए ही हो।

PPP की गाड़ी में तीन ज़रूरी घटक हैं: बुनियादी ढाँचा वित्त में विस्फोट (पेंशन और अन्य बड़ी निधियों द्वारा समर्थित); देशों के कच्चे माल का फ़ायदा लेने के लिए आकर्षक विशाल-PPP परियोजनाओं की "पाइपलाइनें" तैयार करना; और पर्यावरण और सामाजिक सुरक्षा उपायों की समाप्ति। PPP के उपयोग का विस्तार होने के साथ इनमें से प्रत्येक की ध्यानपूर्वक निगरानी की जानी चाहिए।

विश्व बैंक पहले ही एक दशक के भीतर बुनियादी ढाँचा परियोजनाओं का विस्तार करके अपने ऋण को दोगुना करना चाह रहा है। इसकी नई वैश्विक बुनियादी ढाँचा सुविधा (GIF) विशिष्ट परिसंपत्ति वर्ग के रूप में बुनियादी ढाँचे में निवेश करने के लिए वैश्विक पेंशन और श्रेष्ठ संपदा निधियों को जुटाएगा।

उभरती दुनिया भी सक्रिय रही है। BRICS ने हाल ही में बुनियादी ढाँचे और सतत विकास के लिए नए विकास बैंक (NDB) की योजनाओं की घोषणा की है। अफ़्रीका के लिए इसका पहला क्षेत्रीय केंद्र दक्षिण अफ़्रीका में स्थित होगा। चीन नया एशियाई बुनियादी ढाँचा निवेश बैंक आरंभ करेगा। इन दोनों बैंकों का लक्ष्य क्रमशः, अमेरिका के नेतृत्व वाले विश्व बैंक और जापान के नेतृत्व वाले एशियाई विकास बैंक के लिए विकल्पों की पेशकश करना है।