8

समुद्र में क़ानून-व्यवस्था हासिल करना

टोक्यो – एशिया और दुनिया में शांति सुनिश्चित करने में जापान बड़ी और ज़्यादा सक्रिय भूमिका निभाने के लिए आज पहले से कहीं बेहतर स्थिति में है। हमें अपने सहयोगी दलों और अन्य अनुकूल देशों का स्पष्ट और उत्साहपूर्ण समर्थन प्राप्त है, जिनमें हर आसियान सदस्य देश और संयुक्त राज्य अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, भारत, यूनाइटेड किंगडम, और फ़्रांस, और अन्य शामिल हैं। उन सभी को पता है कि जापान - एशिया और सभी लोगों के लिए - क़ानून-व्यवस्था का समर्थक है।

हम अकेले नहीं हैं। ज़्यादातर एशिया-प्रशांत देशों में, आर्थिक विकास ने विचार और धर्म की आज़ादी, और साथ ही और ज़्यादा जवाबदेह और संवेदनशील राजनीतिक प्रणाली का पोषण किया है। हालाँकि ऐसे बदलावों की गति हर देश में अलग-अलग है, लेकिन क़ानून-व्यवस्था के विचार ने जड़ पकड़ ली है। और इसका मतलब है कि क्षेत्र के राजनीतिक नेताओं को अंतर्राष्ट्रीय क़ानून के प्रति सम्मान सुनिश्चित करना होगा।

यह ज़रूरत अंतर्राष्ट्रीय समुद्री क़ानून के क्षेत्र में जितनी स्पष्ट है, उतनी दूसरे क्षेत्रों में नहीं है। एशिया-प्रशांत क्षेत्र में एक ही पीढ़ी के अंतराल में ज़बरदस्त विकास हुआ है। अफसोस की बात है कि उस विकास के फल का बड़ा और सापेक्षिक रूप से अनुपयुक्त हिस्सा सेना के विस्तार में लगाया जा रहा है। अस्थिरता के स्रोतों में न केवल सामूहिक विनाश के हथियारों का ख़तरा शामिल है, बल्कि साथ ही - और ज़्यादा तात्कालिक रूप से – इसमें बल या अतिचार के माध्यम से क्षेत्र-संबंधी यथास्थिति को बदलने के प्रयास भी शामिल हैं। और ये प्रयास प्रमुख रूप से समुद्र में हो रहे हैं।

हाल ही में, अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और मैंने पारस्परिक र���प से क्षेत्रीय शांति और सुरक्षा की आधारशिला के रूप में हमारे देशों के सहयोग की पुष्टि की है। इसके अलावा, संयुक्त राज्य अमेरिका और जापान क्षेत्रीय और वैश्विक शांति और आर्थिक समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए समान विचारधारा वाले भागीदारों के साथ त्रिपक्षीय सहयोग को मज़बूत कर रहे हैं। पहले ही, ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री टोनी एबट और मैं सहमत हो चुके हैं कि हमें ठीक ऐसा ही करना चाहिए।