African Village_Carsten ten Brink_Flickr Carsten ten Brink/Flickr

जेफ़री सैश का महत्व क्यों है

सिएटल – बोनो अर्थशास्त्री के अनुसार ज़ेफ़री सैश एक ऐसा "चरमराता पहिया है जो बहुत शोर करता है।" मेरे लिए सैश अर्थशास्त्र के बोनो हैं - ऐसा व्यक्ति जिसके पास प्रभावशाली मेधा, जुनून, और प्रतिपादन की शक्तियाँ हैं और जो अपनी प्रतिभाओं का उपयोग धरती के सबसे ग़रीब लोगों के लिए आवाज़ उठाने के लिए कर रहा है। इसलिए मुझे इस बात से आश्चर्य नहीं हुआ कि किसी पत्रकार को सैश किसी पुस्तक के लिए दमदार मुख्य पात्र लगा - और पाठकों को अंतर्राष्ट्रीय विकास के संभावित शुष्क विषय की ओर आकर्षित करने का अच्छा तरीका लगा।

द आइडियलिस्ट, वैनिटी फ़ेयर में लेखिका नीना मुंक ने सैश और उसकी मिलेनियम ग्राम परियोजना (MVP) - जो 120 मिलियन डॉलर की प्रदर्शन परियोजना है - का सूक्ष्म चित्र खींचा है जिसका उद्देश्य दुनिया को यह दिखाना है कि भारी मात्रा में लक्षित सहायता के ज़रिए अफ़्रीकी गाँवों को ग़रीबी से बाहर निकालना संभव है। मुंक के लिए सैश की शानदार विशेषताओं की क़ीमत पर, उसके नकारात्मक गुणों पर अत्यधिक बल देकर उसका कैरीकैचर बनाना आसान, और शायद बिक्री की दृष्टि से ज़्यादा लाभदायक होता। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।

मुंक ने पुस्तक के लिए शोध करने, सैश को अच्छी तरह से जानने, और 15 मिलेनियम गाँवों में से दो में लंबी अवधि तक रहने में छह साल लगाए। सैश और उनकी टीम जो कुछ करने की कोशिश कर रहे हैं उसके महत्व और मुश्किल की वे स्पष्ट रूप से सराहना करती हैं।

To continue reading, register now.

As a registered user, you can enjoy more PS content every month – for free.

Register

or

Subscribe now for unlimited access to everything PS has to offer.

https://prosyn.org/VHTSPRmhi