3

युद्ध और शांति और जल

वाशिंगटन, डीसी - वर्तमान में भारत को पिछले कई वर्षों में पहली बार सबसे खराब जल के संकट का सामना करना पड़ रहा है -अनुमान है कि लगभग 330 मिलियन लोग - इसकी चौथाई आबादी - गंभीर सूखे से प्रभावित हैं। इथियोपिया को भी कई दशकों में पहली बार सबसे गंभीर सूखे से निपटना पड़ रहा है, जिसके फलस्वरूप पहले ही कई फसलें नष्ट हो चुकी हैं, खाद्य पदार्थों की कमी हो गई है जिससे अब आबादी का लगभग दसवाँ हिस्सा प्रभावित है। ऐसी परिस्थितियों में, संसाधनों की वजह से होनेवाले तनाव का बहुत अधिक जोखिम होता है।

अतीत में, ऐसी गंभीरता के सूखों के फलस्वरूप पड़ोसी समुदायों और राज्यों के बीच संघर्ष और युद्ध तक भी हुए हैं। इतिहास में पहली ऐसी स्थिति लगभग 4,500 साल पहले उत्पन्न हुई थी, जब लगाश के शहर-राज्य - जो आधुनिक समय में इराक में दजला और फरात नदियों के बीच बसे हैं - अपने पड़ोसी देश उम्मा से पानी प्राप्त करते थे। जल के लिए प्रतिस्पर्धा के कारण प्राचीन चीन में हिंसक घटनाएँ हुईं और मिस्र साम्राज्य में राजनीतिक अस्थिरता की स्थिति बन गई।

Chicago Pollution

Climate Change in the Trumpocene Age

Bo Lidegaard argues that the US president-elect’s ability to derail global progress toward a green economy is more limited than many believe.

आज बेहतर संवाद और सीमा पार से सहयोग के फलस्वरूप जल संसाधनों के कारण देशों के बीच वास्तविक युद्ध सामान्यतः नहीं होते हैं। लेकिन, देशों के भीतर दुर्लभ जल के लिए प्रतिस्पर्धा अस्थिरता और संघर्ष का अधिक सामान्य स्रोत बनती जा रही है, विशेष रूप से इसलिए कि जलवायु परिवर्तन के फलस्वरूप चरम मौसम की घटनाओं की गंभीरता और आवृत्ति बढ़ती जा रही है। जै��ा कि हमने अपनी नई रिपोर्ट “असहाय स्थिति: जलवायु परिवर्तन, जल और अर्थव्यवस्था” में विस्तार से बताया है, सीमित और अनियमित जल उपलब्धता से आर्थिक विकास में कमी होती है, पलायन में वृद्धि होती है, और नागरिक संघर्ष भड़कते हैं, जिससे संभावित रूप से अस्थिरता लाने वाले पलायन में और तेज़ी आती है।

कुछ क्षेत्रों में यह चक्र कई दशकों से स्पष्ट दिखाई दे रहा है। उदाहरण के लिए, उप-सहारा अफ्रीका में पिछले 20 वर्षों में कम वर्षा की अवधियों के बाद अक्सर हिंसा, गृह युद्ध, और शासन में परिवर्तन की घटनाएं हुई हैं। और ग्रामीण अफ्रीका और भारत के कई हिस्सों में, वर्षा में कमी ने और अधिक जल-प्रचुर स्थानों, अक्सर शहरों की ओर आंतरिक या सीमा पार स्थानांतरण के लिए "उकसाने" का काम किया है, जिससे विस्थापित लोगों की संख्या बढ़ने के कारण नए सामाजिक दबाव पैदा हुए हैं।

हमारी रिपोर्ट में, हमने यह पूर्वानुमान लगाया है कि जल का अभाव संघर्ष-जोखिम गुणक के रूप में कार्य कर सकता है, जिससे संसाधन-संचालित संघर्ष, हिंसा, और विस्थापन के चक्रों में तेज़ी आ सकती है, विशेष रूप से मध्य पूर्व और अफ्रीका में साहेल जैसे पहले से ही जल के अभाव वाले क्षेत्रों में, जहां कृषि अभी भी रोजगार का महत्वपूर्ण स्रोत है।

सौभाग्य से, गरीबी, अभाव और संघर्ष के चक्र से बचने का एक उपाय है। यदि देश अच्छे प्रोत्साहनों से भरपूर प्रभावी जल प्रबंधन की नीतियों और प्रथाओं को कार्यान्वित करने के लिए अब कार्रवाई करते हैं, तो वे न केवल जल के अभाव की स्थिति को पूरी तरह पलट सकते हैं, बल्कि अपने आर्थिक विकास की दरों में प्रति वर्ष छह प्रतिशत अंक तक की वृद्धि भी कर सकते हैं।

जल के अभाव वाला एक देश मोरक्को है जिसने जलवायु परिवर्तन के लिए अपने लचीलेपन में सुधार करने के लिए कार्रवाई की है। कम वर्षा के वर्षों में, मोरक्को के नदी-घाटी के अधिकारी फसलों की सिंचाई को सबसे कम प्राथमिकता देते हैं, जो देश के जल का सबसे बड़ा उपभोक्ता है। लेकिन जाहिर तौर पर, आबादी को खिलाने के लिए कृषि का क्षेत्र महत्वपूर्ण बना हुआ है। इसलिए सरकार किसानों को अधिक कुशल जल सेवाएं प्रदान करने के लिए सिंचाई के बुनियादी ढांचे के आधुनिकीकरण में निवेश करती आ रही है ताकि उन्हें जल की ऐसी अधिक कुशल सेवाएँ प्रदान की जा सकें जिनसे वे जल की उपलब्धता में घट-बढ़ से अधिक आसानी से निपट सकें।

मोरक्को के अधिकारी भूजल की अधिक निकासी से बचने के लिए उसके नियंत्रण में सुधार लाने के लिए भी काम कर रहे हैं। वर्षा सिंचित कृषि के क्षेत्र में लगे किसानों को जो सहायता मिलती है उससे सीधी बुवाई जैसी जलवायु-लचीली प्रथाओं की शुरूआत करने के रूप में उन्हें वर्षा का बेहतर उपयोग करने में मदद मिलती है, परिणामस्वरूप सूखे के वर्षों के दौरान पारंपरिक प्रथाओं से प्राप्त पैदावार की तुलना में अधिक पैदावार मिलती है।

Fake news or real views Learn More

मोरक्को से - और हमारी रिपोर्ट से - यह संदेश मिलता है कि स्मार्ट जल नीतियों और हस्तक्षेपों से, देश जलवायु-लचीले, जल-सुरक्षित भविष्य को सुनिश्चित कर सकते हैं। प्रभावी जल प्रबंधन रणनीतियों के मूल में जल-संसाधनों के आवंटन के लिए बेहतर योजना बनाना, कार्यकुशलता बढ़ाने के लिए प्रोत्साहनों को अपनाना, जल सुरक्षा में सुधार के लिए बुनियादी ढांचे में निवेश करना, और बेहतर शहरी योजना, जोखिम प्रबंधन, और नागरिक योगदान बढ़ाना शामिल होगा। हाल ही में जल पर बनाया गया अंतर्राष्ट्रीय उच्च-स्तरीय पैनल, जिसमें दस राज्याध्यक्ष शामिल हैं, विश्व स्तर पर बेहतर जल प्रबंधन को बढ़ावा देने के लिए ठीक इस एजेंडे को प्रोत्साहित करेगा।

तथापि, जल-सुरक्षित भविष्य को सुरक्षित करने के लिए हर देश उसी मार्ग का अनुसरण नहीं करेगा। लेकिन, जैसे-जैसे देश अपनी रणनीतियाँ विकसित करेंगे, वे यह जानने के लिए एक-दूसरे के विचारों और अंतर्दृष्टियों पर गौर कर सकते हैं कि कौन-सी चीज़ कारगर हो सकती है और कौन-सी नहीं। दुनिया भर की सरकारें ठोस और विवेकपूर्ण कार्रवाई करके, जल संसाधनों को प्रभावित करनेवाली प्राकृतिक सीमाओं और अनिश्चितताओं का प्रभावी ढंग से सामना कर सकती हैं, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सकेगा कि आगे जो कुछ होने की संभावना है उसके लिए उनके लोग और अर्थव्यवस्थाएँ तैयार हैं।