2

पाकिस्तान का गृह युद्ध

सिंगापुर – पाकिस्तान की सेना ने कई सालों के अनिर्णय के बाद, पिछले महीने उत्तरी वज़ीरिस्तान कबायली एजेंसी में पूरे स्तर पर सैन्य अभियान शुरू किया जिसका लक्ष्य आतंकी अड्डों को नष्ट करना और इस क्षेत्र की अराजकता को समाप्त करना है। सेना ख़ास तौर से विदेशी लड़ाकों को खदेड़ना चाहती है जो इस क्षेत्र का इस्तेमाल मुस्लिम दुनिया में विभिन्न जिहादों के लिए अड्डे के रूप में कर रहे हैं। लेकिन, इस बात का जोखिम है कि यह अभियान एक और शरणार्थी संकट पैदा करके आतंकी ख़तरे को पाकिस्तान के दूसरे भागों में फैला देगा, जिनमें उसका सबसे बड़ा शहर और वाणिज्यिक केंद्र, कराची शामिल है।

आदिवासी एजेंसी में स्थापित अभयारण्यों से संचालन करके विभिन्न आतंकवादी गुटों ने देश में दूसरे स्थानों पर स्थित संगठनों के सहयोग से पहले से ही पाकिस्तान के चार पड़ोसियों - अफ़गानिस्तान, चीन, भारत, और ईरान - पर हमले कर दिए हैं। क्षेत्र के विदेशी लड़ाकों में से, उज़्बेकिस्तान इस्लामिक आंदोलन से संबंधित उज़्बेकी हाल ही में सबसे ज़्यादा स्पष्ट ख़तरा बन गए हैं, जिन्होंने कराची के जिन्ना अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर 8-9 जून के हमले की ज़िम्मेदारी ली है, जिसमें सभी दस उग्रवादियों सहित 30 लोग मारे गए थे।

उत्तरी वज़ीरिस्तान अभियान को शुरू करते हुए, पाकिस्तान के नए सेना प्रमुख, जनरल राहील शरीफ़ ने कहा है कि उनकी सेना तथाकथित रूप से "अच्छे" और "बुरे" तालिबानियों के बीच कोई भेद नहीं करेगी। इनमें से पहले को, जिनमें हक्कानी शामिल हैं - जिनका नाम जलालुद्दीन हक्कानी के नाम पर रखा गया है और जिन्होंने अफ़गानिस्तान में सोवियत सेनाओं के खिलाफ़ इस्लामी प्रतिरोध का नेतृत्व किया था - पाकिस्तान की मुख्य सुरक्षा एजेंसी इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) ने प्रशिक्षण दिया और हथियारों से लैस किया।

2001 में संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा अफ़गानिस्तान पर आक्रमण के बाद, हक्कानियों ने उत्तरी वज़ीरिस्तान कबायली एजेंसी में अभयारण्य बनाया था। आईएसआई ने यह कार्य इस उम्मीद से किया था कि 2014 के अंत में अमेरिकी लड़ाकू सैनिकों के चले जाने के बाद पश्तून समूह अफ़गानिस्तान में पाकिस्तान के लिए परदे के पीछे से काम करेगा। लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि हक्कानियों ने ऐसे किसी सौदे का सम्मान नहीं किया, और उत्तरी वज़ीरिस्तान में अपने उज़्बेकी मेहमानों को कराची हवाई अड्डे पर हमला करने की अनुमति दे दी।