12

ओबामा बनाम ओबामाकेयर

न्यूयार्क – राष्ट्रपति बराक ओबामा का सिग्नेचर 2010 स्वास्थ्य-देखभाल सुधार, यूएस रोगी संरक्षण और किफ़ायती देखभाल अधिनियम (पेशेंट प्रोटेक्शन एंड अफ़ोर्डेबल केयर एक्ट), उन लाखों अमेरिकियों के लिए बीमा कवरेज का विस्तार करने में सफल रहा है जिन्हें यह अन्यथा उपलब्ध न हो पाता। और, आलोचकों की चेतावनियों के विपरीत, इससे स्वास्थ्य-देखभाल की लागतें बढ़ी नहीं हैं; वास्तव में, इस बात की कुछ आशा है कि लागत की वक्र रेखा अंततः नीचे की ओर झुक सकती है।

लेकिन इस बात का कोई आश्वासन नहीं है कि "ओबामाकेयर" से स्वास्थ्य-देखभाल की अत्यधिक ऊँची लागतों को कम करने में सफलता मिलेगी या नहीं। यह ओबामा के प्रशासन की अन्य नीतियों पर निर्भर करेगा, ख़ास तौर से ऐसे क्षेत्र में जो असंबंधित प्रतीत हो सकता है: बौद्धिक संपदा पर संयुक्त राज्य अमेरिका की भारत के साथ चल रही चर्चाएँ। और यहाँ, ओबामा शक्तिशाली यूएस फ़ार्मास्यूटिकल लॉबी के दबाव के कारण, अपने खुद के सिग्नेचर सुधार को कमज़ोर करने के लिए कटिबद्ध प्रतीत हो रहे हैं।

फ़ार्मास्यूटिकल की लागतें अमेरिकी स्वास्थ्य-देखभाल ख़र्च का अधिकाधिक बड़ा हो रहा घटक बन रहा है। वास्तव में, सकल घरेलू उत्पाद के हिस्से के रूप में, सिर्फ़ 20 साल में नुस्ख़े की दवाओं के परिव्यय लगभग तीन गुना हो गए हैं। इसलिए स्वास्थ्य-देखभाल की लागतें कम करने के लिए फ़ार्मास्यूटिकल उद्योग में और ज़्यादा प्रतिस्पर्धा की ज़रूरत है - और इसका मतलब है, सामान्य दवाओं के निर्माण और वितरण की अनुमति देना। इसके बजाय, ओबामा प्रशासन भारत के साथ एक ऐसा व्यापार समझौता करने की कोशिश कर रहा है जो सामान्य दवाओं से प्रतिस्पर्धा को कमज़ोर करेगा, और इस तरह - भारत और दूसरे देशों में - अरबों लोगों के लिए जीवन-रक्षक दवाओं को महँगा बना देगा। यह इस अन्यथा नेक इरादे वाली नीति का अनपेक्षित परिणाम नहीं है; यह यूएस व्यापार नीति का स्पष्ट लक्ष्य है।

प्रमुख बहुराष्ट्रीय फ़ार्मास्यूटिकल कंपनियाँ लंबे समय से सामान्य दवाओं में प्रतिस्पर्धा अवरुद्ध करने का काम कर रही हैं। लेकिन विश्व व्यापार संगठन का उपयोग करके, बहुपक्षीय दृष्टिकोण उससे कम प्रभावी साबित हुआ है जिसकी उन्होंने उम्मीद की थी, इसलिए अब वे द्विपक्षीय और क्षेत्रीय समझौतों के माध्यम से इस लक्ष्य को प्राप्त करने की कोशिश कर रहे हैं। भारत - जो विकासशील देशों के लिए सामान्य दवाओं का प्रमुख स्रोत है – के साथ नवीनतम समझौते इस रणनीति का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।