0

जलवायु परिवर्तन का समाधान

उआगादूगु - बुर्किना फासो सहेल के केंद्र में स्थित है, जिसका मतलब है कि जलवायु परिवर्तन की दृष्टि से यह दुनिया के सबसे कमजोर देशों में से एक है। इसके किसान शायद ग्लोबल वार्मिंग के भौतिक कारणों के बारे में बहुत कम जानते हैं, लेकिन उन्हें इसके प्रभावों के बारे में पता है - कम-से-कम बारिश के पैटर्न में भारी परिवर्तनशीलता, सूखा पड़ने से लेकर बाढ़ आने तक की स्थिति जिसके फलस्वरूप फसलें नष्ट हो जाती हैं, चराई के मैदा��ों का भूक्षरण, और खाद्यान्न संकट के बारे में पता है।

परिणामस्वरूप, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर और बुर्किना फासो में, धारणीय कृषि की अवधारणा कई वर्षों से मज़बूत होती जा रही है। इस शब्द का राजनीतिक भाषणों में उल्लेख होता है और यह वैश्विक कृषि विकास के लिए एक महत्वपूर्ण दृष्टिकोण बन गया है। वास्तव में, धारणीयता अब कृषि में एक प्रेरक बल है - और यह उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि पिछले दशकों में उत्पादकता थी।

धारणीय कृषि की अवधारणा अभिन्न रूप से धारणीय विकास से जुड़ी हुई है, 1987 में पहली बार इसकी परिभाषा आर्थिक विकास के उस मॉडल के रूप में की गई थी “जो भावी पीढ़ियों की अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने की योग्यता से समझौता किए बिना वर्तमान की आवश्यकताओं को पूरा करता है।”

धारणीय कृषि की परिभाषा उस प्रकार की खेती के रूप में की गई है जिसमें यह सुनिश्चित होता है कि आंतरिक और बाह्य संसाधनों का इस्तेमाल और उनका संरक्षण यथासंभव अधिक से अधिक कुशलता से किया जाता है; यह पारिस्थितिकी रूप से सुदृढ़ हो (यह प्राकृतिक वातावरण को बेहतर बनाता हो, न कि उसे नुकसान पहुँचाता हो); और आर्थिक रूप से व्यवहार्य हो, और कृषि निवेशों पर उचित प्रतिलाभ देनेवाला हो।

इन दोनों परिभाषाओं की बारीकी से जाँच करने पर हम इस निष्कर्ष पर पहुँचते हैं कि धारणीय कृषि के बिना धारणीय विकास नहीं हो सकता। दरअसल, बुर्किना फासो में धारणीय कृषि का देश की विकास नीतियों और रणनीतियों में प्रमुख स्थान है - और यह होना भी चाहिए।

2012 में, बुर्किना फासो ने धारणीय विकास की राष्ट्रीय नीति को अपनाया जो त्वरित विकास और धारणीय विकास की रणनीति में निर्धारित कल्पना को साकार करने का मुख्य साधन बन गई है। इस कल्पना में उस "उत्पादक अर्थव्यवस्था का वर्णन किया गया है, जो विवेकपूर्ण और कुशल प्रशासन के ज़रिए विकास को तीव्र करती है, जीवन स्तरों को बढ़ाती है, जीवन के वातावरण और जीवन की स्थितियों को बेहतर बनाती है और बरकरार रखती है।"

बुर्किना फासो में खेती के सभी हितधारक मोटे तौर पर धारणीय कृषि के प्रति प्रतिबद्धता को साझा करते हैं। नवंबर 2011 में आयोजित कृषि और खाद्य सुरक्षा के लिए महासभा के राष्ट्रीय सम्मेलन में निम्नलिखित उद्देश्य को सम्मिलित किया गया:  "2025 तक, बुर्किना फासो में खेती आधुनिक, प्रतिस्पर्धात्मक, टिकाऊ, और विकासपरक होगी। यह परिवार के स्वामित्व वाले खेतों और कुशल कृषि व्यवसायों पर आधारित होगी, और इसमें इस बात की गारंटी होगी कि सभी नागरिकों की पहुँच उस भोजन तक होगी जिसकी उन्हें स्वस्थ, सक्रिय जीवन व्यतीत करने के लिए जरूरत है।" इसी तरह बुर्किना फासो के ग्रामीण क्षेत्रों के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम का उद्देश्य "खाद्य और पोषण सुरक्षा, मजबूत आर्थिक विकास, और गरीबी कम करने के लिए धारणीय रूप से योगदान करना है।"

बुर्किना फासो में कृषि संबंधी एक और परीक्षित और स्वीकृत प्रथा उत्पादन का एकीकृत प्रबंधन करना है। इसका लक्ष्य छोटे भूधारकों की उत्पादकता को धारणीय रूप से बेहतर बनाना है, उन्हें उस ज्ञान और समझबूझ से लैस करना है जिसकी मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण का सम्मान करते हुए कुशलतापूर्वक संचालित करने के लिए जरूरत होती है। इस नीति ने प्राकृतिक संसाधनों के प्रबंधन और कीटनाशकों जैसी कृषि निविष्टियों के उपयोग के संबंध में व्यावहारिक बदलावों के लिए प्रेरित किया है।

धारणीय कृषि ने बुर्किना फासो में खेती में बेहतरी के लिए बदलाव किया है। यहाँ और अन्यत्र भी, यह हमारी उस योग्यता का मूलमंत्र है जिससे हम जलवायु परिवर्तन का सामना कर सकते हैं और खाद्य और पोषण संबंधी असुरक्षा के प्रति प्रतिरोधन क्षमता तैयार कर सकते हैं क्योंकि यह भूमि का सम्मान करती है और यह औद्योगिक खेती की तुलना में कहीं अधिक प्रभावशाली है। इसके अलावा, धारणीय प्रथाएँ उन छोटी, परिवार संचालित भूधारिताओं के महत्व को सिद्ध करती हैं जिनसे बुर्किना फासो जैसे देशों में, लगभग पूरी घरेलू खाद्य आपूर्ति का उत्पादन होता है।

लेकिन बुर्किना फासो जैसे देश अकेले ही जलवायु परिवर्तन का समाधान नहीं कर सकते। उन्हें करना भी नहीं चाहिए: यहाँ और अन्य स्थानों पर सूखे और बाढ़ की स्थिति अधिकतर ग्रीन हाउस गैसें उत्पन्न करनेवाले औद्योगिक कार्यकलापों के कारण होनेवाले जलवायु असंतुलनों के कारण होती है। हम मुख्य रूप से विकसित देशों द्वारा उत्पन्न की गई स्थिति के शिकार हैं - यह वह स्थिति है जो हमारे स्वयं के विकास में रुकावट पैदा कर रही है। यदि हम धारणीय विकास की परिभाषा को गंभीरता से लेते हैं, तो इस परिणाम के लिए उन लोगों को भी मदद करनी होगी जो इसके लिए जिम्मेदार हैं, विशेष रूप से उन अनुकूलन लागतों के लिए योगदान करके जिसका सामना अब बुर्किना फासो जैसे देशों को करना पड़ रहा है।