Latin America Mario Tama/Getty Images

स्वतंत्र और समान रहना

मैड्रिड - 1990 में पहली मानव विकास रिपोर्ट के प्रकाशन के बाद से चौथाई सदी में, दुनिया ने गरीबी कम करने और लाखों करोड़ों लोगों के स्वास्थ्य, शिक्षा, और रहन-सहन में सुधार के मामले में उल्लेखनीय प्रगति की है। और इसके बावजूद, चाहे ये लाभ कितने भी प्रभावशाली क्यों न हों, उनका वितरण समान रूप से नहीं हुआ है। देशों के बीच और उनके भीतर, दोनों ही दृष्टियों से मानव विकास में गहरी असमानताएँ बनी हुई हैं।

शिशु मृत्यु दर पर विचार करें। आइसलैंड में, हर 1,000 जीवित जन्मों में से, दो बच्चे अपने पहले जन्मदिन से पूर्व ही मर जाते हैं। मोजाम्बिक में, यह आंकड़ा हर 1,000 जीवित जन्मों के लिए 120 बच्चों की मृत्यु का है। इसी तरह, बोलीविया में कम-से-कम माध्यमिक शिक्षा प्राप्त माताओं से जन्मे बच्चों की तुलना में शिक्षा रहित महिलाओं से जन्मे बच्चों की एक वर्ष के भीतर मृत्यु होने की दुगुनी संभावना होती है। और ये असमानताएं किसी व्यक्ति के पूरे जीवन में जारी रहती हैं। मध्य अमेरिका में कम आय वाले परिवार में पैदा हुए पांच वर्ष के बच्चे का कद, औसत रूप से, उच्च आय वाले परिवार में पैदा हुए बच्चे की तुलना में छह सेंटीमीटर कम होता है।

ऐसे अंतर कई कारणों से बने हुए हैं। इनमें विषम आय वितरण जैसी "ऊर्ध्वाधर असमानताएँ” शामिल हैं, और साथ ही ऐसी “क्षैतिज असमानताएँ” भी शामिल हैं जो जाति, लिंग और जातीयता जैसे कारणों के फलस्वरूप समूहों के भीतर मौजूद रहती हैं, और वे भी जो आवासीय पृथक्करण के कारण समुदायों के बीच पनपती हैं।

To continue reading, please log in or enter your email address.

Registration is quick and easy and requires only your email address. If you already have an account with us, please log in. Or subscribe now for unlimited access.

required

Log in

http://prosyn.org/9YEq3dw/hi;