सभी को शिक्षित करना

एडिनबर्ग – मिलेनियम डेवलपमेंट गोल्स (एमडीजी) द्वारा निर्धारित इस लक्ष्य को प्राप्त करने में भारी रुकावटें सामने आ रही हैं कि यह सुनिश्चित किया जाए कि दिसंबर 2015 तक स्कूल जाने की आयु वाला हर बच्चा स्कूल में हो। चूंकि हाल के महीनों में गाज़ा, सीरिया, इराक और नाइजीरिया में बच्चे वास्तव में युद्ध की पहली पंक्ति में लगे हुए हैं, इसलिए चुनौती की व्यापकता उतनी अधिक स्पष्ट नहीं दिखाई दे पा रही है। यह सब होते हुए भी, सार्वभौमिक शिक्षा के वायदे को पूरा करने के लिए यह ज़रूरी है कि बाल शरणार्थी और युद्ध क्षेत्रों में रहनेवाले बच्चे जो सबसे अधिक कठिन परिस्थितियों में रहते हैं, सुरक्षित रूप से बुनियादी शिक्षा प्राप्त कर सकें।

शैक्षिक अनुसंधान से यह पता चलता है कि कोई भी देश निरंतर समृद्धि का लाभ नहीं उठा सकता – और कोई भी देश मध्यम आय के जाल से नहीं बच सकता – जब तक कि वह उच्च गुणवत्ता की शिक्षा में भारी मात्रा में निवेश नहीं करता है। यह बात आज की ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था के लिए विशेष रूप से सच है जिसमें कंपनियाँ अपना स्वयं का मूल्यांकन केवल भौतिक संपत्तियों के अनुसार नहीं बल्कि अपनी मानव संपत्तियों के अनुसार करती हैं, और शेयर बाजार भौतिक पूंजी के अतिरिक्त बौद्धिक पूंजी का भी मूल्यांकन करते हैं।

शिक्षा को एक अरसे से आय, धन, हैसियत, और सुरक्षा की गारंटी की दृष्टि से सर्वोपरि माना गया है। इसके बावजूद, लाखों लोग लगातार इससे वंचित रहे हैं या इसमें पिछड़ गए हैं, और दुनिया के लगभग आधे बच्चों को अभी भी बुनियादी शिक्षा तक पहुँच उपलब्ध नहीं है।

We hope you're enjoying Project Syndicate.

To continue reading, subscribe now.

Subscribe

or

Register for FREE to access two premium articles per month.

Register

https://prosyn.org/4mRSQ9Ohi