0

बैंकर क्रांति

कुआला लुम्पुर - वित्तीय नियामकों को आम तौर पर परिवर्तन के प्रति एक नपा-तुला और सतर्क दृष्टिकोण अपनाने के लिए जाना जाता है। लेकिन विकासशील दुनिया में, इस ख्याति को उल्टा-पुल्टा किया जा रहा है। दुनिया के सबसे गरीब देशों में से कुछ में, केंद्रीय बैंकरों ने यह साबित कर दिया है कि वे साहसिक निर्णय लेने - औपचारिक वित्तीय प्रणाली में सहभागिता को व्यापक बनाने की खोज में नवीन दृष्टिकोण को अपनाने, वित्तीय स्थिरता को बढ़ाने, और अपने देशों को समावेशी, टिकाऊ आर्थिक विकास के मार्ग पर लाने के लिए तत्पर हैं।

वित्तीय समावेशन को बढ़ाने के लिए इस बात पर मौलिक रूप से पुनर्विचार करने की आवश्यकता होती है कि किसी देश की वित्तीय प्रणाली को किस प्रकार संरचित और संचालित किया जाता है। इसके लिए अक्सर केंद्रीय बैंकरों के पारंपरिक साधनों से इतर लिखतों का उपयोग करने की आवश्यकता पड़ती है। उदाहरण के लिए, केन्या में अधिकारियों ने विनियामक ढाँचे को इस बात के प्रति सचेत किया कि वे मोबाइल मुद्रा के विकास के लिए अनुमति दें। मलेशिया में, केंद्रीय बैंक ने जनता की वित्तीय साक्षरता के स्तर को ऊपर उठाने में प्रमुख भूमिका अदा की। और फिलीपीन्स में, बैंको सेन्ट्रल एनजी पिलिपिनास ने उन पहुँच स्थलों की संख्या दुगुनी करने में मदद की जहाँ उपभोक्ता वित्तीय सेवाएँ प्राप्त कर सकते हैं, 517 माइक्रो बैंकिंग कार्यालय खोलने में सहायता की, इनमें से कई कार्यालय ऐसी नगरपालिकाओं में खोले गए जहाँ कोई पारंपरिक बैंक शाखाएँ नहीं थीं।

इसी तरह, 2011 में बैंक ऑफ़ तंजानिया ने वित्तीय समावेशन के लिए सहयोग की माया घोषणा के तहत वित्तीय समावेशन को बढ़ाने के लिए विशिष्ट प्रतिबद्धता की, जो विकासशील देशों में गरीबों की सामाजिक और आर्थिक क्षमता का उपयोग करने हेतु नीति निर्माताओं की प्रतिबद्धता है। इसका परिणाम नाटकीय और अपेक्षाओं से बेहद अधिक था। तंजानिया ने अपने 50% वयस्क नागरिकों को बैंकिंग तक पहुँच प्रदान करने के लिए जो लक्ष्य रखा था उसे इसने निर्धारित समय से एक वर्ष पहले ही प्राप्त कर लिया जिससे यह देश डिजिटल वित्तीय सेवाओं में वैश्विक अग्रणी बन गया। पड़ोसी देश केन्या की तरह, मोबाइल मुद्रा को बड़े पैमाने पर अपनाना खेल परिवर्तक सिद्ध हुआ। बैंक के गवर्नर बेन्नो नदुलु ने कहा कि "यह अपरंपरागत लग सकता है। लेकिन हमें विनियमन की अपेक्षा नवाचार को बढ़ावा देना चाहिए।"

इलेक्ट्रॉनिक मुद्रा के मामले में पूर्वी अफ्रीका जहाँ पथ प्रदर्शक बना हुआ है, वहीं दुनिया के अन्य भाग विभिन्न नवोन्मेषी दृष्टिकोण अपना रहे हैं। कोलंबिया में पिछले वर्ष कांग्रेस ने विशेषीकृत इलेक्ट्रॉनिक जमा और भुगतान संस्था नामक एक नई तरह की वित्तीय संस्था बनाने के लिए कानून पारित किया। ��द्यपि ये संस्थाएँ तकनीकी तौर पर बैंक नहीं हैं, ये मोबाइल फोन के माध्यम से या किसी डाक घर जैसे लाइसेंसशुदा स्थानों पर ग्राहकों से इलेक्ट्रॉनिक रूप से जमा और भुगतान स्वीकार करने के लिए सक्षम होती हैं। यह प्रयास 2014 में शुरू की गई एक व्यापक राष्ट्रीय रणनीति का हिस्सा है जिसमें 2016 के अंत तक 76% वयस्कों को वित्तीय पहुँच और 56% वयस्कों को सक्रिय बचत खाते उपलब्ध किए जाएँगे।