elderly running Jim West/ZumaPress

भविष्य वृद्धावस्था का है

म्यूनिख – हमारे समाजों की उम्र का बढ़ना बीसवीं सदी की सबसे बड़ी सफलता की कहानियों में से एक है। पिछले सौ सालों में लाखों-करोड़ों लोगों के जीवन में तीन से अधिक दशक जोड़े जा चुके हैं। यह एक ऐसी उपलब्धि है जो भारी जश्न मनाने लायक है; लेकिन हमें इस बात को भी ध्यान में रखना चाहिए कि दीर्घायु होने के महत्वपूर्ण दीर्घकालिक आर्थिक परिणाम भी होते हैं - और कई समाजों में उम्र रिकार्ड गति से बढ़ रही है।

पिछले साल, ओईसीडी ने चेतावनी दी थी कि विश्व में उम्र अभूतपूर्व दर से बढ़ रही है और इसके फलस्वरूप वैश्विक वार्षिक आर्थिक विकास दर इस दशक के 3.6% के औसत से कम होकर 2050 से 2060 में लगभग 2.4% तक हो सकती है। विशेष रूप से ओईसीडी देशों को दोहरा जनसांख्यिकीय आघात झेलना पड़ेगा। न केवल उनके समाजों की उम्र तेजी से बढ़ती जाएगी; अमीर देशों और उभरती अर्थव्यवस्थाओं के बीच आय के अंतरों के कम होने से आप्रवास प्रवाहों में कमी होने की संभावना है, जिससे कर्मचारियों की संख्या में यूरोजोन में 20% और संयुक्त राज्य अमेरिका में 15% तक की कमी होगी।

जनसांख्यिकीय शोधकर्ताओं ने 65 से अधिक उम्र की आबादी में हिस्सेदारी के अनुसार देशों को चार श्रेणियों में विभाजित किया है: युवा (65 वर्ष या उससे अधिक वाले 7% से कम), प्रौढ़ (7-13%), वृद्ध (14-20%), और अत्यधिक वृद्ध (21% से अधिक)। आज सिर्फ तीन देश - जर्मनी (21%), इटली (22%), और जापान (26%) अत्यधिक वृद्ध उम्र वर्ग के समाजों की शर्तों को पूरा करते हैं। अगले पांच वर्षों में उनमें बुल्गारिया, फिनलैंड, ग्रीस और पुर्तगाल के जुड़ जाने की संभावना है। अगले दशक में, यूरोप ऑस्ट्रिया, फ्रांस, स्वीडन और ब्रिटेन सहित अन्य 17 देशों के साथ उम्रदराज होना जारी रखेगा, जिनके कनाडा, क्यूबा, और दक्षिण कोरिया के साथ अत्यधिक उम्र वर्ग में आने की संभावना है।

We hope you're enjoying Project Syndicate.

To continue reading, subscribe now.

Subscribe

or

Register for FREE to access two premium articles per month.

Register

https://prosyn.org/ynReM52hi