2

भविष्य वृद्धावस्था का है

म्यूनिख – हमारे समाजों की उम्र का बढ़ना बीसवीं सदी की सबसे बड़ी सफलता की कहानियों में से एक है। पिछले सौ सालों में लाखों-करोड़ों लोगों के जीवन में तीन से अधिक दशक जोड़े जा चुके हैं। यह एक ऐसी उपलब्धि है जो भारी जश्न मनाने लायक है; लेकिन हमें इस बात को भी ध्यान में रखना चाहिए कि दीर्घायु होने के महत्वपूर्ण दीर्घकालिक आर्थिक परिणाम भी होते हैं - और कई समाजों में उम्र रिकार्ड गति से बढ़ रही है।

पिछले साल, ओईसीडी ने चेतावनी दी थी कि विश्व में उम्र अभूतपूर्व दर से बढ़ रही है और इसके फलस्वरूप वैश्विक वार्षिक आर्थिक विकास दर इस दशक के 3.6% के औसत से कम होकर 2050 से 2060 में लगभग 2.4% तक हो सकती है। विशेष रूप से ओईसीडी देशों को दोहरा जनसांख्यिकीय आघात झेलना पड़ेगा। न केवल उनके समाजों की उम्र तेजी से बढ़ती जाएगी; अमीर देशों और उभरती अर्थव्यवस्थाओं के बीच आय के अंतरों के कम होने से आप्रवास प्रवाहों में कमी होने की संभावना है, जिससे कर्मचारियों की संख्या में यूरोजोन में 20% और संयुक्त राज्य अमेरिका में 15% तक की कमी होगी।

जनसांख्यिकीय शोधकर्ताओं ने 65 से अधिक उम्र की आबादी में हिस्सेदारी के अनुसार देशों को चार श्रेणियों में विभाजित किया है: युवा (65 वर्ष या उससे अधिक वाले 7% से कम), प्रौढ़ (7-13%), वृद्ध (14-20%), और अत्यधिक वृद्ध (21% से अधिक)। आज सिर्फ तीन देश - जर्मनी (21%), इटली (22%), और जापान (26%) अत्यधिक वृद्ध उम्र वर्ग के समाजों की शर्तों को पूरा करते हैं। अगले पांच वर्षों में उनमें बुल्गारिया, फिनलैंड, ग्रीस और पुर्तगाल के जुड़ जाने की संभावना है। अगले दशक में, यूरोप ऑस्ट्रिया, फ्रांस, स्वीडन और ब्रिटेन सहित अन्य 17 देशों के साथ उम्रदराज होना जारी रखेगा, जिनके कनाडा, क्यूबा, और दक्षिण कोरिया के साथ अत्यधिक उम्र वर्ग में आने की संभावना है।

इस अवधि के दौरान, समाजों में तेजी से उम्र बढ़ने की चुनौतियाँ का सामना मुख्य रूप से विकसित दुनिया को करना पड़ेगा। लेकिन, 2040 तक लगभग 55 देश अधिक उम्र वाली आबादी का प्रबंध करने के लिए संघर्ष कर रहे होंगे, जबकि अमेरिका, चीन, सिंगापुर, थाईलैंड और प्यूर्टो रिको अत्यधिक उम्र वर्ग की श्रेणियों में शामिल हो चुके होंगे।

ये बदलाव जिस गति से हो रहे हैं, उससे यह घटना और भी अधिक उल्लेखनीय होती जा रही है। 1850 में फ्रांस जब युवा देश से एक वृद्ध देश बना था तब अमेरिका में गुलामी कानूनी बनी हुई थी, रोशनी के बल्ब का आविष्कार नहीं हुआ था, और जर्मनी एकीकृत देश नहीं बना था। इस देश को 1980 में एक प्रौढ़ समाज बनने के लिए और 130 साल लग गए। फ्रांस के 2023 में अत्यधिक उम्र वर्ग में आने की संभावना है।

कई सालों तक, यह माना जाता था कि जापान में पृथ्वी पर सबसे तेजी से प्रौढ़ हो रही आबादी है। 1960 के दशक के आरंभ में जी-7 देशों में सबसे कम उम्र की आबादी वाले देश की स्थिति से यह 2008 में दुनिया का सबसे अधिक उम्र वाला देश बन गया। लेकिन यदि वर्तमान अनुमान सही सिद्ध होते हैं, तो कई देश इस तरह के परिवर्तन की प्रक्रिया एक दशक पहले पूरी कर लेंगे।

वास्तव में, आज दुनिया में सबसे तेजी से प्रौढ़ होता देश दक्षिण कोरिया है, जो 1999 में प्रौढ़ होता जा रहा समाज बन गया था, 2017 में इसके प्रौढ़ समाज बन जाने की संभावना है, और 2027 में यह अत्यधिक वृद्ध देश बन जाएगा। दूसरे शब्दों में, दक्षिण कोरिया में यह परिवर्तन तीन दशकों से कम अवधि में पूरा हो जाएगा जबकि इसके लिए फ्रांस को लगभग 175 साल का समय लगा होगा। और हालाँकि दक्षिण कोरिया सबसे तेजी से वृद्ध होता जा रहा है, यह निकट रूप से समूहित देशों के समूह में सबसे आगे है जिसमें बांग्लादेश, सिंगापुर, थाईलैंड, और वियतनाम शामिल हैं।

ईरान, जो अभी तक युवा के रूप में वर्गीकृत है, सबसे तेजी से प्रौढ़ होते देश का खिताब पाने के लिए एक और दावेदार है। उम्र का बढ़ना जीवन प्रत्याशाओं के बढ़ने और प्रजनन दरों के कम होने का परिणाम होता है। प्रजनन दरों में गिरावट की गति दुनिया भर में नाटकीय रही है; ईरान में यह दर 1984 में प्रति महिला सात बच्चों से कम  होकर 2006 में 1.9 हो गई जो किसी भी रूप में आश्चर्यजनक से कम नहीं थी। जब कामकाजी उम्र वाली आबादी कम होने लग जाएगी और बुजुर्ग आबादी बढ़ने लग जाएगी तो इसके निश्चित रूप से दीर्घकालिक परिणाम होंगे। ईरान के 2020 के बाद तक युवा बने रहने की उम्मीद है, लेकिन उसके बाद 30 साल से कम समय में वह अत्यधिक उम्र वर्ग में आ सकता है।

और फिर भी, चाहे उम्र बढ़ने के कैसे भी प्रतिकूल आर्थिक प्रभाव हों, विकल्प पर विचार करना महत्वपूर्ण है। सिएरा लियोन, लेसोथो, मध्य अफ्रीकी गणराज्य, और जिम्बाब्वे जैसे देश इस धरती पर सबसे कम जीवन प्रत्याशा वाले देशों में हैं। उन्हें अकाल, भ्रष्टाचार, संघर्ष, साफ पानी तक पहुँच न मिल पाना और शिक्षा, एड्स, और इबोला जैसी कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, लेकिन तेजी से सामाजिक उम्र का बढ़ना उन चुनौतियों में शामिल नहीं है। तेजी से प्रौढ़ होती आबादी एक समस्या हो सकती है, लेकिन कुल मिलाकर, यह एक बहुत अच्छी समस्या है।