0

वैश्विक स्वास्थ्य के लिए एक नई दिशा

न्यूयार्क – यद्यपि आज अंतर्राष्ट्रीय सहयोग की स्थिति के बारे में सहज ही हतोत्साहित हुआ जा सकता है, लेकिन वैश्विक स्वास्थ्य एक ऐसा क्षेत्र बना हुआ है जिसमें विश्व उल्लेखनीय रूप से महत्वपूर्ण अच्छा काम करने के लिए एक साथ आ गया है। पिछले दर्जन वर्षों में, अंतर्राष्ट्रीय पहल के फलस्वरूप, लाखों लोगों को एचआईवी/एड्स का उपचार उपलब्ध हुआ है, बाल्यवस्था के टीकाकरण का विस्तार हुआ है, और मलेरिया से लेकर मातृ स्वास्थ्य जैसी अन्य स्वास्थ्य चुनौतियों के समाधान के लिए वैश्विक समर्थन में नाटकीय वृद्धि हुई है।

वैश्विक स्वास्थ्य के लिए अंतर्राष्ट्रीय समर्थन विकसित हो रहे देशों की भावी समृद्धि और उनके लोगों की भलाई के लिए एक निवेश है। यह एक ऐसा निवेश है जिसके लिए दुनिया के सबसे अमीर देश आसानी से खर्च कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका वैश्विक स्वास्थ्य सहायता का प्रमुख योगदानकर्ता है, इसका योगदान 2013 में अमेरिका के खर्च का सिर्फ 0.23% था। इस निवेश पर मिलनेवाले लाभ उल्लेखनीय रहे हैं। बाल मृत्यु दर में भारी कमी हो रही है। ऐसे लाखों लोग जो अन्यथा एचआईवी/एड्स के शिकार हो जाते, वे अभी भी जीवित हैं। जो देश सहायता प्राप्तकर्ता थे वे बहुत अधिक आत्मनिर्भर हैं - और परिणामस्वरूप वे बेहतर व्यापार और रणनीतिक भागीदार बन गए हैं।

लेकिन निम्न और मध्यम आय वाले देशों की स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों में अब परिवर्तन हो रहे हैं। अमीर देशों में दशकों के दौरान शहरीकरण, वैश्विक व्यापार, और उपभोक्ता बाजारों में होनेवाले नाटकीय परिवर्तन उन देशों में अब पहले से बहुत अधिक तेज दर से और बहुत बड़े पैमाने पर हो रहे हैं जो अभी भी गरीब हैं। इन प्रवृत्तियों के फलस्वरूप बेहतर स्वच्छता और अधिक खाद्य उत्पादन जैसे भारी स्वास्थ्य लाभ प्राप्त हुए हैं, लेकिन साथ ही इनसे महत्वपूर्ण चुनौतियाँ भी पैदा हुई हैं।

इबोला इसका एक उत्तम उदाहरण है। 1976 में पहली बार इबोला की पहचान होने के बाद से इस वर्ष से पहले तक, इबोला से 2,000 से कुछ कम लोगों की मृत्यु हुई थी, ये सभी मध्य अफ्रीका में हुई थीं। इस वायरस से 2014 में इससे तीन गुना अधिक लोगों की मृत्यु हुई है, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इसके प्रसार के मामले काफी अधिक होने के कारण रात्रि समाचार प्रसारणों में और हाल ही में अमेरिका के राज्य और स्थानीय चुनावों में अश्वेत मतदाताओं में इन्हें प्रमुखता मिली।

इसका एक प्रमुख कारण छोटे और मध्यम आकार के शहरों का विकास होना है। पश्चिम अफ्रीका में शहरीकरण में 3% वार्षिक की दर से बढ़ोतरी हो रही है (जबकि इसकी तुलना में उत्तरी अमेरिका और यूरोप में इसकी दर क्रमश: 0.2% और 0.3% है)। इसका परिणाम यह हुआ है कि सार्वजनिक स्वास्थ्य के सीमित बुनियादी ढाँचे के साथ रहनेवाले एक लाख या उससे कम लोगों की बस्तियाँ बढ़ती जा रही हैं।

ये तंग शहर इबोला जैसे उभरते संक्रामक रोगों के फैलने के लिए आदर्श प्रजनन स्थल हैं। इस क्षेत्र में व्यापार और यात्रा अधिक होने के कारण, इससे पहले कि अंतर्राष्ट्रीय रोकथाम को एकीकृत किया जा सके, इनका प्रसार होने की संभावना होती है।

बदलती वैश्विक स्वास्थ्य जरूरतों का एक और उदाहरण निम्न और मध्यम आय वाले देशों में हृदय रोग, कैंसर, और अन्य गैर-संक्रामक रोगों में आश्चर्यजनक रूप से तेज वृद्धि होना है। पहले जहाँ इन रोगों को केवल समृद्ध देशों के लिए चुनौतियाँ माना जाता था, ये विकासशील क्षेत्रों में तेजी से मृत्यु और अक्षमता का प्रमुख कारण बन गए हैं, 2013 में अपने 60 वें जन्मदिन से पहले इन रोगों ने लगभग आठ मिलियन लोगों को मौत के घाट उतार दिया।

विदेश संबंध परिषद द्वारा प्रायोजित हाल ही की एक रिपोर्ट में, हमने विकासशील देशों में हृदय रोग, कैंसर, मधुमेह, और अन्य गैर-संक्रामक रोगों की बढ़ती दरों और एचआईवी/एड्स और अन्य संक्रामक रोगों के अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों की सफलता में विषमता को दर्शाया है। 1990 से 2010 तक, निम्न आय वाले देशों में गैर-संक्रामक रोगों से मृत्यु और अक्षमता संक्रामक रोगों में कमी की दर की तुलना में 300% तेजी से बढ़ी है।

हाल ही में इबोला के प्रकोप के लिए जो कारक जिम्मेदार थे उनमें से कुछ कारक वही हैं जिनके कारण गैर-संक्रामक रोगों की दरें उच्च हैं। उभरती अर्थव्यवस्थाओं में घनी आबादी वाले शहरी इलाकों के निवासियों को अक्सर आंतरिक और बाह्य दोनों तरह के प्रदूषण का सामना करना पड़ता है, और पर्याप्त पोषण तक उनकी पहुँच की संभावना कम होती है। इन देशों में अधिकतर स्वास्थ्य प्रणालियाँ दीर्घकालिक या निवारक देखभाल के लिए नहीं बनी हैं और उनमें बुनियादी उपभोक्ता संरक्षणों की कमी होती है। 1970 से 2000 तक, विकासशील देशों में सिगरेट की खपत तीन गुना हो गई। उच्च आय वाले देशों में ग्रीवा के कैंसर जैसे रोकथाम किए जा सकने वाले या मधुमेह जैसे उपचार किए जा सकने वाले रोग, विकासशील देशों में अक्सर मृत्यु दंड के रूप में होते हैं।

अंतर्राष्ट्रीय निवेशों को अभी तक विशेष रूप से गैर-संक्रामक रोगों के लिए, वैश्विक स्वास्थ्य संबंधी बदलती जरूरतों के अनुरूप नहीं ढाला गया है। 2010 में, अंतर्राष्ट्रीय सहायता की $ 69.38 की राशि एचआईवी/एड्स से मृत्यु या अक्षमता के कारण खो दिए गए प्रत्येक वर्ष के लिए खर्च की गई थी (जिसे असमर्थता-समायोजित जीवन-वर्षों में, या DALYs के रूप में मापा जाता है), $ 16.27 की राशि मलेरिया के कारण खो दिए गए प्रत्येक वर्ष के लिए खर्च की गई थी, और $ 5.42 की राशि मातृ, नवजात शिशु, और बाल स्वास्थ्य के कारण खो दिए गए प्रत्येक वर्ष के लिए खर्च की गई थी। लेकिन हृदय रोग, कैंसर, और अन्य गैर-संक्रामक रोगों के कारण खो दिए गए प्रत्येक वर्ष के लिए केवल 0.09 $ की राशि खर्च की गई थी।

इस बीच, उभरती गैर-संक्रामक महामारी और भयानक होती जा रही है। वास्तव में, विश्व आर्थिक मंच ने 2030 तक विकासशील देशों में इन रोगों से $21.3 ट्रिलियन की हानियाँ होने का पूर्वानुमान लगाया है।

फिर भी गैर-संक्रामक रोगों के मामले में प्रगति होना संभव है। उच्च आय वाले देशों में मोटापे की दरें बहुत उच्च होने के बावजूद, हृदय रोग, कैंसर, और अन्य गैर-संक्रामक रोगों से अकाल मृत्यु और अक्षमता में भारी कमी हुई है। इस सफलता के मूल में अंतर्निहित साधन और नीतियाँ सस्ती हैं, लेकिन विकासशील देशों में इन्हें व्यापक रूप से लागू नहीं किया जाता है। इनमें दिल के दौरे कम करने के लिए कम लागत वाली दवाएँ, ग्रीवा कैंसर को रोकने के लिए टीके, और तंबाकू पर कर लगाने और उसके विज्ञापन के वही नियम शामिल हैं जिनसे यूरोप और अमेरिका भर में धूम्रपान की दर में नाटकीय रूप से कमी हुई है। पायलट कार्यक्रमों में इन उपायों और नीतियों को ���िम्न और मध्यम आय वाले देशों में एचआईवी/एड्स और अन्य संक्रामक रोगों के दाता-वित्तपोषित कार्यक्रमों में सफलतापूर्वक एकीकृत किया गया है।

यदि अगले दशक में, निम्न और मध्यम आय वाले देश गैर-संक्रामक रोगों की रोकथाम और उपचार में उसी दर पर सुधार ला सकते हैं जो 2000-2013 के दौरान औसत अमीर देश में थी, तो उनसे पाँच मिलियन से अधिक लोगों की मृत्यु को रोका जा सकता है। यह लाभ एचआईवी और बाल टीकाकरण में सबसे सफल वैश्विक स्वास्थ्य निवेशों के समतुल्य है, और इसी कारण यह एक किए जाने योग्य निवेश है: शांतिपूर्ण, समावेशी वैश्विक अर्थव्यवस्था में अधिक स्वस्थ, अधिक उत्पादक जीवन की पूर्वधारणा होती है।