Skip to main content

Cookies and Privacy

We use cookies to improve your experience on our website. To find out more, read our updated Cookie policy, Privacy policy and Terms & Conditions

sangwan1_Nasir KachrooNurPhoto via Getty Images_beggarbusystreetindia Nasir Kachroo/NurPhoto via Getty Images

भारत में ऋण की जाति

नई दिल्ली – 1950 में, नए स्वतंत्र भारत ने अपनी जाति व्यवस्था को आधिकारिक तौर पर समाप्त कर दिया और "अछूत" माने जाने वाले दलितों के खिलाफ भेदभाव को गैरकानूनी घोषित कर दिया, जो कठोर सामाजिक वर्गीकरण में सबसे नीचे धकेल दिए गए थे। ऐतिहासिक कुरीतियों को दूर करने के इस प्रयास को दलित व्यवसायों के प्रभावशाली पूंजीवादी दृष्टिकोण का समर्थन प्राप्त हुआ जिसने उनके मालिकों को सामाजिक और आर्थिक सम्मान के स्तर तक ऊपर उठा दिया जिससे उनके खिलाफ पूर्वाग्रह मिट गया।

लेकिन भारत की जाति व्यवस्था, जो 3,000 वर्षों के इतिहास से पुख्ता हुई है, अत्यधिक लचीली साबित हुई है। लगभग सात दशकों के सदाशयपूर्ण सरकारी हस्तक्षेप के बावजूद, जातिगत पहचान भारत के ग्रामीण जीवन के हर पहलू में व्याप्त है, जिसमें दलितों को गहरे पैठ गए पूर्वाग्रह का सामना करना पड़ रहा है, जो स्वयं उनके और उनके परिवार के लिए जीवन को बेहतर बनाने और भारत की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण रूप से योगदान करने की क्षमता में बाधा डालता है।

भारत की जातियों को उनके सदस्यों द्वारा पारंपरिक रूप से किए जाने वाले कामों के संदर्भ में परिभाषित किया जाता है। दलितों के लिए इसका मतलब आम तौर पर खानों और खदानों में, गर्म-मसालों की खेती में, या ईंट के भट्ठों में कठोर श्रम करना रहा है। सीवर खोलने, मानव अपशिष्ट का निपटान करने, जानवरों के शवों की खाल उतारने जैसे घटिया या गंदे काम अधिकतर दलितों के हिस्से में आते हैं।

We hope you're enjoying Project Syndicate.

To continue reading, subscribe now.

Subscribe

Get unlimited access to PS premium content, including in-depth commentaries, book reviews, exclusive interviews, On Point, the Big Picture, the PS Archive, and our annual year-ahead magazine.

https://prosyn.org/z5tUiOVhi;

Edit Newsletter Preferences