Skip to main content

Cookies and Privacy

We use cookies to improve your experience on our website. To find out more, read our updated Cookie policy, Privacy policy and Terms & Conditions

Tax preparation AgriLife Today/Flickr

अंतर्राष्ट्रीय कर सहयोग की विफलता

न्यूयॉर्क – दुनिया की अधिकतर सरकारें कराधान के मामलों में सहयोग करने में रुचि रखती हैं क्योंकि वे विकास के वित्तपोषण के लिए अधिक कर राजस्व जुटाने और ऐसी व्यापक कर-वंचन योजनाओं पर अंकुश लगाने के लिए उत्सुक हैं जिनका पिछले वर्ष तथाकथित लक्ज़मबर्ग लीक कांड में खुलासा हुआ था। फिर भी पिछले महीने अदीस अबाबा में आयोजित विकास के लिए वित्तपोषण पर तीसरे अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में, अंतर्राष्ट्रीय कर सहयोग को मजबूत करने की गति में अचानक अवरोध आ गया था।

विकसित देशों ने इस सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र की विशेषज्ञों की मौजूदा समिति के स्थान पर संयुक्त राष्ट्र के भीतर एक अंतर-सरकारी कर निकाय की स्थापना करने के एक प्रस्ताव को रोक दिया। ये देश इस बात पर जोर देते हैं कि कर सहयोग के मामले पर अनन्य रूप से ओईसीडी के नेतृत्व में विचार किया जाना चाहिए, जो एक ऐसा निकाय है जिसका नियंत्रण उनके हाथ में है।

दुनिया के बाकी देशों को यह आशा करनी चाहिए कि 13 साल पहले मॉन्टेरी, मेक्सिको में विकास के लिए वित्तपोषण पर पहले अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में जिस अंतर्राष्ट्रीय कर सहयोग की शुरूआत हुई थी, इससे उसकी प्रगति का अंत नहीं होगा बल्कि इसमें एक ठहराव आएगा। दो वर्ष बाद, 2004 में, संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद (ECOSOC) ने कर विशेषज्ञों के अपने "तदर्थ समूह" को एक नियमित समिति के रूप में उन्नत किया। इसका अर्थ यह था कि विशेषज्ञ नियमित रूप से मिलेंगे और वे एक विस्तारित अधिदेश के अंतर्गत कार्य करेंगे जिसका कार्यक्षेत्र मॉडल दोहरे-कराधान की संधि को अद्यतन करने मात्र से बहुत अधिक बढ़ गया था।

We hope you're enjoying Project Syndicate.

To continue reading, subscribe now.

Subscribe

Get unlimited access to PS premium content, including in-depth commentaries, book reviews, exclusive interviews, On Point, the Big Picture, the PS Archive, and our annual year-ahead magazine.

https://prosyn.org/UFkLmcIhi;
  1. lhatheway7_Claudio Santistebanpicture alliance via Getty Images_ECBFedLagardePowell Claudio Santisteban/picture alliance via Getty Images

    Restoring Central Banks’ Credibility

    Larry Hatheway

    The old central-bank playbook of slashing interest rates to spur consumption, investment, and employment has become less effective since the 2008 financial crisis. Yet without effective tools and the public's confidence, central banks will be unable to rise to the occasion when the next recession arrives.

    0
  2. fischer163_action press-PoolGetty Images_natoflagsoldiers Action Press-Pool/Getty Images

    The Day After NATO

    Joschka Fischer

    French President Emmanuel Macron has drawn criticism for describing NATO as brain dead and pursuing a rapprochement with Russian President Vladimir Putin. But now that a wayward America could abandon the continent at any moment, Macron's argument for European defense autonomy is difficult to refute.

    8